NANAJI DESHMUKH VETERINARY SCIENCE UNIVERSITY, JABALPUR

FREQUENTLY ASKED QUESTIONS

1. Where is the University located?

The University is located at College of Veterinary Science and Animal Husbandry campus, Jabalpur (M.P).

2. When was the University established?

The university was established at Jabalpur on 3 November 2009 (under the M.P. Act No. 16 of 2009 and NDVSU amendment Act No 32 of 2012, The MPPCVV adhiniyam, 2009).

3. What are the mission and objectives of the university?

Mission:-Promote need based and region specific research, human resource development, technology generation for improving the rural livelihoods.

Objectives:-

  • To impart education in different branches of veterinary and fisheries and allied sciences as the university may determine
  • To provide for the advancement of learning and prosecution of research in veterinary and fisheries sciences and
  • To undertake the extension of such sciences to the rural people in co-operation with the government departments concerned

4. What are the different academic units of the university?

Different academic units of the university are as follows:

A) Colleges

  • College of Veterinary Science and Animal Husbandry, Jabalpur
  • College of Veterinary Science and Animal Husbandry, Mhow
  • College of Veterinary Science and Animal Husbandry, Rewa
  • College of Fisheries Sciences, Jabalpur

B) Centres

  • Animal Biotechnology Centre, Jabalpur
  • Centre for Wildlife Forensic and Health, Jabalpur

C) Veterinary Polytechnics

  • Veterinary Polytechnic, Jabalpur
  • Veterinary Polytechnic, Mhow
  • Veterinary Polytechnic, Rewa
  • Veterinary Polytechnic, Bhopal
  • Veterinary Polytechnic, Morena

5. What academic programs does University offer?

The University offers Bachelor’s Degree in Veterinary Science and Animal Husbandry, Bachelor’s Degree in Fisheries Science and Diploma in Animal Husbandry. Presently, Post graduate degree courses are offered in 17 disciplines (15 in Veterinary & Animal Sciences, 1 each in Animal Biotechnology and Wildlife Health Management). Doctoral degree programmes with course work are offered in 11 disciplines at Veterinary College, Jabalpur and in 3 disciplines at Veterinary College, Mhow and only M.V.Sc in few subjects at Veterinary College, Rewa is proposed.

6. What is the duration of different degree programs offered at University?

Duration of different degree programs offered at University are as follows:

Programmes

Degree/Diploma

Duration

UG

Bachelor of Veterinary Science and Animal Husbandry
(B. V. Sc. & A.H.)

5½ Years

PG

Master of Veterinary Science (M. V. Sc.)

2 Years

Doctoral

Ph. D. in different disciplines of Veterinary Sciences and Animal Husbandry

3 Years

UG

Bachelor of Fishery Science (B. F. Sc.)

4 Years

Diploma

Diploma in Animal Husbandry

2 Years

7. Does the University offer a degree in Animal Biotechnology?

The University offers M.Sc/M.V.Sc degree as well as Ph.D. in Animal biotechnology. Aspiring candidates with either B.V.Sc. & A.H. degree or B.Sc degree in any branch of the science can apply.

8. When does the academic year start for various undergraduate programmes?

The admission process for undergraduate programs usually starts from the Month of August/September every year

9. When does the academic year start for various Masters’ programmes?

The admission process for Masters program start in July/ August every year.

10. When does the academic year start for various Doctoral (Ph.D.) programmes?

The admission process for Doctoral programmes starts in July/ August every year

11. How the students are admitted into Bachelor of Veterinary Sciences and Animal Husbandry (B. V. Sc. & A.H.)?

The students are admitted into Bachelor of Veterinary Sciences and Animal Husbandry (B. V. Sc. & A.H.) through online counseling using the merit list of State Level Entrance Examination (Preveterinary & Fishery Test) conducted by Professional Examination Board, Bhopal, M. P. The admission in All India quota VCI seats was done by Veterinary Council of India, New Delhi through online counseling using merit list of All India Entrance Examination. The candidates are called for counselling as per the schedule and are admitted on the basis of merit of entrance examination. The admission in Non Resident Indian (NRI) Quota Seats is done on the basis of merit list of the candidates prepared based on the aggregate of Physics, Chemistry and Biology marks obtained in 12th class or equivalent examination abroad.

12. How the students are admitted into Bachelor of Fisheries Sciences (B. F. Sc.)?

The students are admitted into Bachelor of Fishery Science (B. F. Sc.) through online counseling using the merit list of State Level Entrance Examination (Preveterinary & Fishery Test) conducted by Professional Examination Board, Bhopal, M. P. The admission in Non Resident Indian (NRI) Quota Seats is done on the basis of merit list of the candidates prepared based on the aggregate of Physics, Chemistry and Biology marks obtained in 12th class or equivalent examination abroad.

13. How the students are admitted into Diploma in Animal Husbandry?

The students are admitted in Animal Husbandry Diploma course through online counseling using the merit list of State Level Entrance Examination (Diploma in Animal Husbandry Entrance Test) conducted by Professional Examination Board, Bhopal, M. P. The candidates are called for counselling as per the schedule and are admitted on the basis of merit of entrance examination.

14. How the students are admitted into Master of Veterinary Sciences (M. V. Sc.)?

The students are admitted into Master of Veterinary Sciences (M. V. Sc.) through All India Entrance Examination conducted by the University.

15. What is the intake capacity of students per year for Bachelor of Veterinary Sciences and Animal Husbandry (B. V. Sc. & A.H.) at different colleges under the University ?

The intake capacity of students for Bachelor of Veterinary Sciences and Animal Husbandry (B. V. Sc. & A.H.) at different colleges are as follows (Table 1):

S.No.

Name of College/Programme offered 

Vety College Jabalpur

Vety College Mhow

Vety College Rewa

1.

Under Graduate. (B.V.Sc& A.H.)

87

87

87

2.

Post Graduate(M.V.Sc )

59

52

59

3.

Ph.D

21

09

03

16. What is the intake capacity of students for Bachelor of Fisheries Sciences (B. F. Sc.)?

The intake capacity of students for Bachelor of Fisheries Sciences (B. F. Sc.) at Fishery college, Jabalpur is 33.

17. What is the intake capacity of students for Diploma in Animal Husbandry?

The intake capacity of students for diploma in animal husbandry at different colleges are as follows (Table 2):

S.No.

Name of College/Programme
offered 

Name of college/institution

Capacity

a.

AHDC

Veterinary Polytechnic Jabalpur

61

b.

AHDC

Veterinary Polytechnic Mhow

61

c.

AHDC

Veterinary Polytechnic Rewa.

60

d.

AHDC

Veterinary Polytechnic Bhopal.

59

e.

AHDC

Veterinary Polytechnic Morena

59

18. Does the university has National and International Collaborations?

The university has expanded its research and academic initiatives through Memorandum of Understanding (MOU) at national and international levels. The University has signed following MOUs with Universities/ Institutes/ Private Organizations to undertake joint collaborative research projects (table 3):

  • Jeju National University, Republic of Korea
  • National Dairy Research Institute, Karnal
  • Ayurvet Limited, New Delhi
  • Council for Research in Ayurveda and Siddha, New Delhi
  • Forest Research Institute, Dehradun
  • Mandi Board, Bhopal

19. Whom one should contact for getting information regarding admissions and appointments ?

Visit Website: http://www.mppcvv.org or Registrar : +91-0761-2620545

20. How do I find contact information about the faculty?

This information can be obtained from directory located at the home page by visiting the concerned department.

21. Where is University Veterinary Hospital located?

It is located at south civil lines, near commissioner office, in front of head post office, Jabalpur, 482001, Ph: 0761-2678606

22. What kinds of services are provided in the University Veterinary Hospital?

University Veterinary Hospital provides facilities for treatment of pet and large animals including laboratory diagnosis. Facilities for blood examination, fecal examination, skin scrapings, X-Ray and ultrasound etc also exist. All kinds of elective and emergency surgeries, gynaecological examination, treatment for reproductive disorders are also taken up. Nominal charges are levied for services at hospital

23. What are the normal hospital timings?

The OPD works from 9.00 AM to 1:00 PM and from 2:00 PM till 5.30 PM. Except few gazetted holidays, 2nd and 3rd saturdays & sundays, the hospital works from 9.00 AM to 12.00 O’ clock

24. Whether emergencies are attended at university hospital?

Yes, the emergency services are looked after by hospital superintendent.

25. Is there any facility to transport sick animals to University Hospital?

Presently no such facility is available

26. Whom to contact for treatment of animals?

The animals are treated at the Teaching veterinary clinical complex (TVCC). You may contact Co-Ordinator (TVCC) or Hospital Superintendent, TVCC. The help line number is: 0761-2678606

27. Where is the examination of blood, urine and other body fluids done?

It is done at Diagnostic Investigation laboratory under Teaching Veterinary Clinical Complex, NDVSU, Jabalpur. The help line number is 0761-2678606.

28. Does Post-Mortem facility exist in hospital ?

Post-Mortem of all the animal species is carried out at Post-Mortem hall, Department of Veterinary Pathology, NDVSU, Jabalpur.

29. Where is the histopathology done?

It is done in the Department of Veterinary Pathology, NDVSU, Jabalpur.

30. What are the services that university provides to the farmers?

The University organizes Pashu Palan Melas, animal health camps, specialized training courses for farmers, treatment of sick animals and ambulatory services.

31. What are the facilities for students other than academics?

Other than studies following facilities are available for students.

a. National Cadet Corps (NCC)

NCC units have been established in all the three Veterinary Colleges under university.

b. National Service Scheme (NSS)

National Service Scheme unit is proposed at veterinary college Jabalpur

c. Sports:

The boys’ and girls’ hostels are having facilities for indoor games and Out door games at various colleges under university

32. Is there any student counseling & Placement cell established at colleges ?

Yes, all the Colleges have a well established student counseling and placement cell. Till date most of the passed out undergraduate students either employed or pursuing higher studies.

33. Is there any sort of entrepreneurial training or experiential learning program for students?

Yes, in all the colleges under the university, these schemes are functional for B. V. Sc. & A.H. students.

34. Is there any facility regarding library services & information network available at colleges ?

Yes, each college has a well established library which contains Text Books, Reference Books, Research and extension Journals, CD ROM, Magazines for current affairs, newspapers, Photocopy machine, ARIS Cell, computers and facility of CERA which provides access to more than 1,800 e-journals

35. What types of facilities are provided by the university for upgradation of state veterinarians ?

The University is regularly organizing ASCAD/RKVY trainings for state Veterinarians to upgrade their knowledge in animal husbandry practices such as strategies for improving the productivity of livestock, small and large animal surgery, diseases control and radio-imaging techniques in animals

36. What types of facilities are provided by the university for upgradation of livestock farmers ?

The University is regularly organizing skill up gradation training programmes (under RKVY and various research projects) from time to time for livestock farmers, women and rural youth in the field of animal husbandry, poultry, fish farming and fodder production.

37. Does Veterinary University organize or participate in kisan melas or sangosti’s?

The University regularly participates and arranges exhibition stalls at Kisan Mela, Pashu Mela, Kisan Sangosthi, Vigyan and Grameen Mela etc. organized by State Department and other research institutes, in which various activities of the University are displayed and useful extension literatures on different aspects for farmers are distributed during these exhibitions.

38. What type of information a farmer can get in these kisan melas or sangosti’s?

A Farmer can get latest information about management, feeding, breeding of animals and treatment/ prevention of various diseases.

39. Can the experts’ are called for the advice/treatment elsewhere to university hospital ?

Though Veterinary assistant surgeons are already deployed at all the levels for this purpose by the state government but during emergencies or outbreaks, experts from the college may be deputed as per the need.

40. What types of treatments are provided of unidentified diseases in the animal health camps?

In animal health camps, treatment for various conditions like gynaecological disorders, off feed,endo & ecto parasitic infestation, fever, other common ailments etc are conducted. Farmers are advised to bring their animals to the university hospital for those conditions which require specialized treatment.

41. How many livestock farms comes under the university and how many species of animals are reared?

The university has following livestock farm complexes in different campuses (Table 4):

       1. Livestock Farm Complex, Adhartal, Jabalpur

       2. Livestock Farm, Amanala, Jabalpur

       3. Fish Farm, Adhartal, Jabalpur

       4. Livestock Farm Complex, Mhow

       5. Livestock Farm Complex, Rewa

The farms maintain different species of animals viz. buffaloes, cattle, goats, pigs, poultry, and fish.


1. यह विश्वविद्यालय कहाॅं पर स्थित है ?

यह विश्वविद्यालय साउथ सिविल लाईन, पशु चिकित्सा एवं पशु पालन महाविद्यालय प्रांगण, जबलपुर (म.प्र.) में स्थित है।

2. विश्वविद्यालय की स्थापना कब हुई ?

विश्वविद्यालय की स्थापना जबलपुर मेें 03 नबम्बर 2009 में (म. प्र. नियम क्र. 32, 2012, म.प्र.प.चि.वि.वि. अधिनियम 2009 के अंतर्गत) हुई ।

3. विश्वविद्यालय के ध्येय एवं उद्वेश्य क्या हैं ?

ध्येय- ग्रामीण आजीविका के सुधार हेतु क्षेत्र विशेष एवं आवश्यकतानुसार अनुसंधान,

उद्वेश्य:-

  • विश्वविद्यालय द्वारा प्रस्तावित पशु चिकित्सा, मत्स्य पालन एवं सम्बंधित विज्ञान की समस्त शाखाओं में शिक्षा का प्रसार करना।
  • पशु चिकित्सा एवं मत्स्य विज्ञान के अनुसंधान से संबंधित शिक्षण एवं अभियोग को उन्नतशील करना।
  • सम्बंधित शासकीय विभागों के सहयोग से ग्रामीण अंचलों में विज्ञान की तकनीक का विस्तार करना।

4. विश्वविद्यालय की विभिन्न शैक्षणिक इकाइयाॅं कौन-कौन सी है?

विश्वविद्यालय की विभिन्न शैक्षणिक इकाइयाॅं निम्न है।:

अ ) महाविद्यालय

  • पशुचिकित्सा एवं पशुपालन महाविद्यालय, जबलपुर ।
  • पशुचिकित्सा एवं पशुपालन महाविद्यालय, महू ।
  • पशुचिकित्सा एवं पशुपालन महाविद्यालय, रीवा ।
  • मत्स्य विज्ञान महाविद्यालय, जबलपुर ।

ब ) केंद्र-

  • पशु जैव प्रैाद्योगिकी केंद्र, जबलपुर।
  • वन्य प्राणी स्वास्थ एवं फाॅरेंसिक, जबलपुर।

स ) पत्रोपाधि महाविद्यालय

  • वेटेरीनरी पाॅलीटेकनिक, जबलपुर।
  • वेटेरीनरी पाॅलीटेकनिक, महू।
  • वेटेरीनरी पाॅलीटेकनिक, रीवा।
  • वेटेरीनरी पाॅलीटेकनिक, भोपाल।
  • वेटेरीनरी पाॅलीटेकनिक, मुरैना।

5. विश्वविद्यालय द्वारा संचालित कोन-कौन से शैक्षणिक कार्यक्रम हैं?

विश्वविद्यालय के अंतर्गत पशुचिकित्सा एवं पशुपालन महाविद्यालयों में बी.व्ही.एस.सी. एवं ए.एच., एम.व्ही.एस.सी. तथा पी.एच.डी. जबलपुर व महू में उपाधि कार्यक्रम हैं। मत्स्य विज्ञान महाविद्यालय जबलपुर में स्नातक पाठयक्रम व पशुपालन में पत्रोपाधि पाठयक्रम संचालित हैं। वर्तमान में सत्रह विषयों में (15 पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान, 01 पशु जैव -प्रोद्योगिकी एवं वन्य जीव स्वास्थ व्यवस्थापन तथा पी.एच.डी. कार्यक्रम पाठयक्रम सहित 11 विभागों में जबलपुर में है एवं 03 में महू में है ) तथा सिर्फ एम.व्ही.एस.सी. कुछ विषयों में रीवा में प्रस्तावित हैं।

6. विश्वविद्यालय द्वारा संचालित विभिन्न शैक्षणिक कार्यक्रमों की समय सीमा क्या हैं ?


कार्यक्रम

उपाधि/पत्रोपाधि

समय सीमा

स्नातक

पशु चिकित्सा एवं पशु पालन में स्नातक

5½ वर्ष

स्नातकोत्तर

पशु चिकित्सा एवं पशु पालन में स्नातकोत्तर

2 वर्ष

विद्या वाचस्पति
(पी.एच.डी.)

पशु चिकित्सा एवं पशु पालन के विभिन्न विषयों में

3 वर्ष

स्नातक

मत्स्य पालन में स्नातक की उपाधि

4 वर्ष

पत्रोपाधि

पशु पालन में पत्रोपाधि

2 वर्ष

7. क्या विश्वविद्यालय पशु जैव प्रौद्योगिकी की उपाधि प्रदान करता है ?

विश्वविद्यालय पशु जैव प्रौद्योगिकी विषय में एम.व्ही.एस.सी / एम.एस.सी. तथा पी.एच.डी. की उपाधि प्रदान करता हैं। जिन छात्रों के पास बी.व्ही.एस.सी. एंड ए.एच. अथवा बी.एस.सी. की उपाधि है, वे छात्र प्रवेश हेतु आवेदन कर सकते हैं।

8. स्नातक पाठयक्रम में प्रवेश के लिए शैक्षणिक सत्र प्रति वर्ष कब प्रारंभ होता है ?

स्नातक पाठयक्रम के लिए शैक्षणिक सत्र प्रति वर्ष अगस्त/सितंबर माह में प्रारंभ होता है।

9. विभिन्न विषयों में स्नातकोत्तर पाठयक्रम में प्रवेश के लिए शैक्षणिक सत्र प्रति वर्ष कब प्रारंभ होता है ?

स्नातकोत्तर पाठयक्रम के लिए शैक्षणिक सत्र प्रति वर्ष जुलाई/अगस्त माह में प्रारंभ होता है।

10. विभिन्न विषयों में पी.एच.डी. पाठयक्रम में प्रवेश के लिये शैक्षणिक सत्र प्रति वर्ष कब प्रारंभ होेता है ?

पी.एच.डी. पाठयक्रम के लिये शैक्षणिक सत्र प्रति वर्ष जुलाई/अगस्त माह में प्रारंभ होता है।

11. बी.व्ही,एस.सी एवं ए.एच. विषय में छात्रों का प्रवेश कैसे होता है ?

इस हेतु अखिल भारतीय प्रवेश परीक्षा जो कि व्ही.सी.आई नई दिल्ली/एम.पी.पी.एम.टी. भोपाल के द्वारा आयोजित की जाती है प्रवेश हेतु उम्मीदवारों को उनके अनुसूची के अनुसार बुलाया जाता है एवं प्रवेश परीक्षा की उत्कृष्टता सूची के अनुसार चयनित किया जाता है।

12. मत्स्य विज्ञान के स्नातक कार्यक्रम हेतु छात्रों की प्रवेश प्रकिया क्या है ?

इस हेतु म.प्र. व्यवसायिक परीक्षा मंडल भोपाल द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा (प्री फिशरीज टेस्ट) के द्वारा प्रवेश होता है, तथा उम्मीदवारों को उनके अनुसूची के अनुसार बुलाया जाता है एवं प्रवेश परीक्षा की उत्कृष्टता सूची के अनुसार चयनित किया जाता है।

13. पशु पालन के पत्रोपधि कार्यक्रम में छात्रों का प्रवेश कैसे होता है ?

इस हेतु म.प्र. व्यवसायिक परीक्षा मंडल भोपाल द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा के द्वारा प्रवेश होता है, तथा उम्मीदवारों को उनके अनुसूची के अनुसार बुलाया जाता है एवं प्रवेश परीक्षा की उत्कृष्टता सूची के अनुसार चयनित किया जाता है।

14. पशु चिकित्सा विज्ञान के स्नातकोत्तर कार्यक्रम हेतु प्रवेश प्रक्रिया क्या है ?

इस कार्यक्रम में प्रवेश हेतु विश्वविद्यालय द्वारा अखिल भारतीय प्रवेश परीक्षा प्रतिवर्ष आयोजित की जाती है।

15. विश्वविद्यालय के अंतर्गत विभिन्न महाविघालयों में बी.व्ही.एस.सी. एंड ए.एच. में प्रवेश हेतु प्रतिवर्ष छात्रों की संख्या क्या है ?

The intake capacity of students for Bachelor of Veterinary Sciences and Animal Husbandry (B. V. Sc. & A.H.) at different colleges are as follows (Table 1):

क्र.

महाविद्यालय का नाम एवं पाठ्यक्रम

प.चि. एवं प.पा. महा., जबलपुर

प.चि. एवं प.पा. महा., महू

प.चि. एवं प.पा. महा., रीवा

1.

स्नातक (बी.व्ही.एस.सी. एंड ए.एच.)

87

87

87

2.

स्नातकोत्तर (एम.व्ही.एस.सी.)

59

52

59

3.

पी.एच.डी.

21

09

03

16. बी.एफ.एस.सी. स्नातक पाठयक्रम में प्रवेश हेतु प्रतिवर्ष छात्रों की संख्या क्या है ?

मत्स्य विज्ञान महाविद्याालय जबलपुर में इस पाठ्यक्रम में प्रतिवर्ष प्रवेश हेतु कुल छात्रों की संख्या 33 है।

17. विश्वविद्यालय के अंतर्गत विभिन्न महाविद्यालयों के पत्रोपाधि पाठ्यक्रम में प्रतिवर्ष प्रवेश हेतु छात्र संख्या क्या है ?

विश्वविद्यालय के अंतर्गत विभिन्न महाविद्यालयों के पत्रोपाधि पाठयक्रम में प्रतिवर्ष प्रवेश हेतु छात्रों की संख्या 300 है। (तालिका-2)

क्र.

महाविद्यालय का नाम एवं पाठ्यक्रम 

महाविद्यालय/संस्था का नाम

संख्या

a.

ए.एच.डी.सी

वेटेरीनरी पाॅलीटेकनिक, जबलपुर

61

b.

ए.एच.डी.सी

वेटेरीनरी पाॅलीटेकनिक, महू

61

c.

ए.एच.डी.सी

वेटेरीनरी पाॅलीटेकनिक, रीवा

60

d.

ए.एच.डी.सी

वेटेरीनरी पाॅलीटेकनिक, भोपाल

59

e.

ए.एच.डी.सी

वेटेरीनरी पाॅलीटेकनिक, मुरैना

59

18. क्या विश्वविद्यालय की राष्ट्रीय एवं अंर्तराष्ट्रीय स्तर पर सहकार्यता है ?

विश्वविद्याालय ने अपने शोध एवं शैक्षणिक पहल से राष्ट्रीय एवं अंर्तराष्ट्रीय स्तर पर अधोलिखित विश्वविद्यालय/संस्थायें/गैर सरकारी संगठनों के साथ सम्मिलित शोध करने हेतु एम.ओ.यू. हस्ताक्षरित किये हैं (तालिका-3)

  • जेजू राष्ट्रीय वि.वि. कोरिया गणतंत्र
  • राष्ट्रीय दुग्ध अनुसंधान संस्थान करनाल
  • आयुर्वेद लिमिटेड, न्यू दिल्ली
  • अनुसंधान परिषद आयुर्वेद और सिद्ध, नई दिल्ली
  • वन्य अनुसंधान संस्थान, देहरादून
  • विपणन मंडल भोपाल

19. विश्वविद्यालय के विभिन्न पाठयक्रमों में प्रवेश तथा विभिन्न पदों पर नियुक्ति संबंधी जानकारी हेतु किसे संपर्क किया जा सकता है ?

इस हेतु विश्वविद्यालय की बेवसाइट http://www.ndvsu.org का अवलोकन करें अथवा कुलसचिव कार्यालय के दूरभाष क्र. 0761-2620545 पर संपर्क करें।

20. हमें विश्वविद्यालय के किसी भी संकाय के अधिकारी सम्बन्धी जानकारी कैसे प्राप्त हो सकती है ?

यह जानकारी संबंधित विभाग की निर्देशिका (डायरेक्टरी) के होम पेज से प्राप्त हो सकती हैं।

21. विश्वविद्यालय का पशु-चिकित्सालय कहां पर स्थित है ?

यह साउथ सिविल लाइन में संभागायुक्त कार्यालय के समीप, प्रधान डाकघर जबलपुर-482001 के सामने स्थित है।

22. विश्वविद्यालय के पशु-चिकित्सालय में किस प्रकार की सुविधायें उपलब्ध हैं ?

विश्वविद्यालय के पशु चिकित्सालय में पालतू एवं बड़े पशुओं का रोगोपचार तथा संबंद्ध निदान प्रयोगशाला में रक्त, मल-मूत्र, त्वचा छीलन परीक्षण के अलावा क्षय किरण, अल्ट्रासाउंड आदि द्वारा रोग निदान की सुविधा है। साथ ही सभी प्रकार की चयनित एवं आपातकालीन शल्य चिकित्सा, प्रसूति परीक्षण एवं प्रजनन संबंधी समस्याओं का निदान व उपचार सामान्य दरों पर किया जाता है।

23. विश्वविद्यालय से संबंधित पशु-चिकित्सालयों की कार्य अवधि क्या है ?

बाहय रोगी विभाग की कार्य अवधि, कार्य दिवसों में प्रातः 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक तथा अपरान्ह 2 बजे से सांय 5.30 तक है परन्तु कुछ राजपत्रित अवकाशों को छोड़कर, द्वितीय एवं तृतीय शनिवार एवं समस्त रविवार को चिकित्सालय की कार्य अवधि प्रातः 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक है।

24. क्या विश्वविद्यालय के पशु-चिकित्सालय में आपतकालीन सेवा दी जाती है ?

हाॅं। चिकित्सालय अधीक्षक के द्वारा आपातकालीन सेवा सुनियोजित की जाती है।

25. क्या विश्वविद्यालय के पशु-चिकित्सालय में रोगी पशु को लाने की सुविधा उपलब्ध है ?

वर्तमान मे इस प्रकार की कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है।

26. पशुओं के उपचार हेतु किससे संपर्क करें ?

इस हेतु शैक्षणिक पशु-चिकित्सालय परिसर के समन्वयक अथवा चिकित्सालय अधीक्षक का हेल्प लाइन नं. 0761-2678606 पर संपर्क करें।

27. रोगी पशुओं के मल-मूत्र, रक्त आदि का परीक्षण कहां किया जाता है ?

यह परीक्षण पशु-चिकित्सालय से संबंद्ध निदान अन्वेषण प्रयोगशाला में किया जाता है इस हेतु हेल्प लाइन नं. 0761-2678606 पर संपर्क करें।

28. क्या पशु-चिकित्सालय में शव-परीक्षण की सुविधा उपलब्ध है ?

नहीं। सभी पशु प्रजाति का शव-परीक्षण व्याधि-विज्ञान विभाग एन.डी.वी.एस.यू के द्वारा किया जाता है।

29. हिस्टोपैथालाजी कहां पर होती है ?

यह सुविधा व्याधि-विज्ञान विभाग, एन.डी.वी.एस.यू में उपलब्ध है।

30. कृषकों के लिये विश्वविघालय क्या सुविधायें दे रहा है ?

विश्वविद्यालय कृषकों एवं पशु-पालकों हेतु पशु-पालन मेला, पशु-स्वास्थ शिविर, कृषक संगोष्ठी एवं विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन, पशु रोगोपचार एवं चल-चिकित्सा सेवायें प्रदान करता है।

31. शिक्षा के अलावा छात्रों के लिये क्या-क्या सुविधायें है ?

शिक्षा के अलावा छात्रों के लिये निम्न सुविधायें हैं।

अ. नेशनल केडिट कोर

विश्वविद्यालय के अंतर्गत तीनो पशु चिकित्सा महाविद्यालयों में छात्रों हेतु एन.सी.सी. की इकाइयाॅ है।

ब. एन.एस.एस.

पशु चिकित्सा महाविद्यालय जबलपुर में एन.एस.एस की इकाई भी प्रस्तावित है।

स. खेलकूद.

विश्वविद्यालय के अंतर्गत विभिन्न महाविद्यालयों के छात्रावासों में इन्डोर एवं आउटडोर खेलकूद गतिविधियों की सुविधा उपलब्ध है।

32. क्या विभिन्न महाविद्यालयों में छात्रों हेतु परामर्श एवं पदस्थापना प्रकोष्ठ स्थापित हैं ?

हाॅं। विश्वविद्याालय के अंतर्गत महाविद्यालयों में छात्रों हेतु परामर्श एवं पदस्थापना प्रकोष्ठ स्थापित है, आज तक उत्तीर्ण हुये छात्रों में से अधिकांश को रोजगार मिल गया है तथा कुछ छात्र उच्च- अध्ययन कर रहे है।

33. क्या छात्रों के स्वरोजगार हेतु कोई व्यवसायिक प्रशिक्षण अथवा अनुभवात्मक अभ्यास योजना का प्रावधान है ?

विश्वविद्याालय के समस्त महाविद्यालयों में बी.व्ही.एस.सी एवं ए.एच. पाठयक्रम के छात्रों हेतु यह दोनों योजनायें कार्यशील है।

34. क्या महाविद्यालयों में ग्रंथालय एवं नेटवर्क से जानकारी प्राप्त हेतु सुविधायें उपलब्ध हैं ?

हाॅं। प्रत्येक महाविद्यालयों में पूर्ण स्थापित ग्रंथालय है जिनमें पाठयपुस्तकें, संदर्भ पुस्तकें, शोध एवं विस्तार ग्रंथ, सी.डी. रोम, नवीन घटनाओं की जानकारी हेतु पत्रिकायें, समाचार-पत्र, फोटो कापी मशीन, ऐरिस सैल, कम्पयूटर एवं सेरा की सुविधा है जिससे 1800 से अधिक इ-जनरल्स की विस्तृत जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

35. राज्य के पशु चिकित्सकों के उत्थान हेतु विश्वविद्यालय किस प्रकार की सुविधायें दे रहा हैं ?

राज्य के पशु चिकित्सकों हेतु विश्वविद्यालय द्वारा एस्काॅड/आर.के.व्ही.वाय के सहयोग से प्रशिक्षण आयोजित किये जाते हैं जिसमें उनकों पशु पालन संबंधी नवीन जानकारियों जैसे-अधिक दुग्ध उत्पादन की रुपरेखा, छोटे व बड़े पशुओं की शल्य-चिकित्सा, रोग-प्रबंधन तथा रेडियो इमेजिंग, आदि से अवगत कराया जाता है।

36. पशु पालकों के उत्थान के लिये विश्वविद्यालय द्वारा किस प्रकार की सुविधायें प्रदाय की जाती है ?

विश्वविद्यालय द्वारा राष्ट्रीय कृषि विकास योजना एव विभिन्न अनुसंधान परियोजना के तहत नियमित उन्नयन प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किये जाते है। इनमें पशु पालकों, कृषक एवं ग्रामीण युवाओं को विभिन्न क्षेत्रों में जैसे पशु पालन, मुर्गीपालन, मत्स्य पालन, चारा उत्पादन इत्यादि में प्रशिक्षित किया जाता है।

37. क्या विश्वविद्यालय किसान मेला/संगोष्ठी आयोजित करता है अथवा उनमें भाग लेता है?

हाॅं। विश्वविद्यालय राज्य शासन के विभाग या अन्य अनुसंधान संस्थाओं द्वारा आयोजित किसान मेला, पशु मेला, किसान संगोष्ठी, विज्ञान मेला व ग्रामीण मेलों में प्रदर्शनी आयोजित करता है, जिसमें विश्वविद्यालय की विभिन्न गतिविधियों को प्रर्दशित किया जाता है एवं पशु पालकों के लिये उपयोगी विस्तार सामग्री का वितरण किया जाता है।

38. पशु मेले या संगोष्ठी से पशु पालकों को क्या जानकारी मिलती है ?

पशु मेले या संगोष्ठी से पशु पालकों को पशु प्रबंधन, आहार, चारा उत्पादन, प्रजनन एवं पशु रोगों का उपचार तथा रोकथाम संबंधी नवीनतम जानकारी मिलती है।

39. क्या विशेषज्ञों को महाविद्यालय के पशु-चिकित्सालय के अलावा उपचार एवं परामर्श हेतु अन्यत्र भेजा जा सकता है ?

यद्यपि राज्य शासन द्वारा इस हेतु सभी स्तरों पर पशु-चिकित्सक नियुक्त किये गये हैं परन्तु किसी अज्ञात रोग के प्रकोप अथवा आपातकालीन परिस्थितियों में आवश्यकतानुसार विशेषज्ञ भेजे जा सकते है।

40. पशु-स्वास्थ शिविर में किस प्रकार के उपचार किये जाते हैं ?

पशु-स्वास्थ शिविरों में विभिन्न प्रकार के पशु रोगों, प्रजनन संबंधी व्याधियां, अतःकृमि एवं बाहय कृमि संक्रमण, ताप एवं अन्य सामान्य परिस्थितियों आदि का उपचार होता है। पशु पालकों को रोग ग्रस्त पशुओं के विशेष रुप से उपचार हेतु विश्वविद्यालय के पशु चिकित्सालय में लाने की सलाह दी जाती है।

41. विश्वविद्यालय के अंतर्गत कितने पशुधन प्रक्षेत्र हैं तथा उनमें कौन सी पशु प्रजातियाॅं उपलब्ध हैं।

विश्वविद्यालय में निम्नलिखित पशुधन प्रक्षेत्र है। (तालिका-4)

       1. संयुक्त पशुधन प्रक्षेत्र, अधारताल जबलपुर

       2. पशुधन प्रक्षेत्र आमानाला, जबलपुर

       3. मत्स्य प्रक्षेत्र, अधारताल जबलपुर

       4. संयुक्त पशुधन प्रक्षेत्र, महू

       5. संयुक्त पशुधन प्रक्षेत्र, रीवा

इन प्रक्षेत्रों में पशुओं की विभिन्न प्रजातियां जैसे गाय, भैस, बकरी, शूकर, मुर्गी तथा मछली उपलब्ध है।